E PAPER कांगड़ा ताजा खबरें देश - विदेश मुख्य - पृष्ठ राजनीति

सुनील महाशा बने प्रदेश के कांगडा जिला संयोजक

पहली नज़र, कांगड़ा
प्रदेश के सबसे बडे कांगडा जिले में भी हिमाचल प्रदेश यूनियन आफ जर्नलिस्टस (संबद्व एनयूजे इंडिया) का कुनबा बढता जा रहा है। संगठन की सदस्यता को लेकर अब जिला स्तर पर अभियान छेडा जाएगा। इसी क्रम में कांगडा के पत्रकार सुनील महाशा को जिला कांगडा का संयोजक, चैन सिंह गुलेरिया ज्वाली को जिला सह संयोजक व फतेहपुर के विजय ठाकुर को जिला सह संयोजक का दायित्व सौंपा गया है। यह तीनो पदाधिकारी आपस में मिलकर समस्त पूरे जिले के समस्त उपमंडलों के पत्रकारों को अपने साथ जोडेंगे और हर मंडल में टीम बनाएंगे। गौरतलब है कि इससे पहले पालमपुर, देहरा, ज्वाली आदि उपमंडलों में एचपीयूजे की इकाईयां पहले ही गठित हो चुकी है। अब कांगडा में सभी मंडलों को जोडने के बाद जिला इकाई का गठन किया जाएगा। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य एनयूजे जोगिन्द्र देव आर्य व प्रदेश महामंत्री किशोर ठाकुर ने बताया कि हमने एक माह के भीतर कांगडा जिले के सभी मंडलों में कार्यकारिणी बनानी है। जब सब मंडलों में कार्यकारिणी बन जाएगी तो उसके बाद जिलाध्यक्ष का चुनाव होगा और उसकी जानकारी दिल्ली कार्यालय भेज दी जाएगी। प्रदेश प्रवक्ता सुरेंद्र शर्मा ने बताया कि प्रांत अध्यक्ष रणेश राणा, राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रज्ञानंद चौधरी तथा राष्ट्रीय महामंत्री शिव कुमार अग्रवाल की सहमति से जिला संयोजक व सह संयोजक कांगडा की कमान वरिष्ठ पत्रकारों को सौंपी गई है।
वह पूरे कांगडा जिले व तमाम उपमंडलों में कार्यरत पत्रकारों विशेषकर ग्रामीण पत्रकारों व दूरदराज क्षेत्रों में कार्यरत खबरनवीसों को संगठन के साथ जोडेंगे और उनकी समस्याएं राज्य कार्यालय तक पहुचांएंगे। प्रदेशाध्यक्ष रणेश राणा, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्यों एनयूजे (इंडिया) ठाकुर जितेंद्र सिंह, हेमंत शर्मा, जोगिंद्र देव आर्य व सुमित शर्मा ने उनसे आग्रह किया है कि वह एक माह के अंदर हिमाचल प्रदेश यूनियन आफ जर्नलिस्टस की जिला कांगडा इकाई का गठन करे ताकि प्रदेश की टीम वहां आकर उसकी घोषणा कर सके। वहीं नव नियुक्त जिला संयोजक कांगडा सुनील महाशा, जिला सह संयोजक विजय ठाकुर व जिला सह संयोजक चैन सिंह गुलेरिया ने कहा कि उनको पत्रकारों के पैरोकार अग्रणी प्रांतीय एचपीयूजे व राष्ट्रीय संगठन एनयूजे ने जो जिम्मेदारी सौंपी है उसको वह ईमानदारी से निर्वहन करेंगे। वह पत्रकार व पत्रकारिता के हितों के लिए दिन रात मेहनत करेंगे। उन्होने कहा कि हरियाणा-पंजाब की तर्ज पर पेंशन व पत्रकारों के कई मुददों को संगठन के मुख्य मुददों में शुमार है जिससे प्रभावित होकर उन्होने एचपीयूजे व एनयूजे इंडिया का दामन थामा है। सुनील महाशा ने कहा कि पेंशन के अलावा बहुत से मुददे है जिसको एचपीयूजे बेहतर तरीके से उठा रहा है और हम कंधे से कंधा मिलाकर संगठन के साथ चलेंगे और कांगडा जिले में संगठन को शीर्ष पर पहुंचाएंगे।

vishak
1
2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *