कांगड़ा ताजा खबरें मुख्य - पृष्ठ हिमाचल प्रदेश

सकारात्मक सोच : गंभीर रूप से संक्रमित 13 वर्षीय नेहा ने जीती कोरोना से जंग


पहली नज़र ब्यूरो धर्मशाला

”जिस इन्सान के अंदर हौंसला होता है, वह लाख मुसीबतों में घिरा होने के बावजूद सब हासिल कर सकता है। हर इन्सान के अन्दर हौंसला होना बहुत ज़रूरी है। अपने हौंसले को यह मत बताओ, कि तुम्हारी परेशानी कितनी बड़ी है। इसी बजाए अपनी परेशानी को यह बताओ कि तुम्हारा हौंसला कितना बड़ा है।“ ये शब्द हैं ज्वाली तहसील के गॉंव जरोट की 13 वर्षीय उस बिटिया के, जिसने गत दिनों कोरोना से ग्रस्त गंभीर रूप से सक्रंमित होने के बावजूद अपनी बीमारी को मात देने में सफल रही।
    वह मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, ज़िला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग का आभार व्यक्त करते हुए कहती है कि वह उनके सहयोग से ही इस कोरोना को हराने में सफल रही है। वह हंसते हुए कहती है कि अगर हम अपनी हिम्मत बनाए रखें तो भगवान भी हमारी मदद के लिए हमारे साथ खड़ा हो जाता है।
    नेहा के पिता गुलशन मन्हास अपनी बेटी की बीमारी के बारे में बताते हुए कहते हैं कि नेहा कुछ दिनों से बीमार थी। धीरे-धीरे उसे सॉंस लेने में तकलीफ़ होने लगी। वह तेज़ बुखार में तप रही थी। उसका दम घुट रहा था। इस गंभीर स्थिति में, मैं उसे रात को नगरोटा-सूरियां, अस्पताल ले गया। जब कोरोना टेस्ट करवाया गया तो नेहा कोरोना पॉज़िटिव पाई गई। वहां डॉक्टरों ने दवाईयों के साथ उसे होम आइसोलेशन की सलाह दी गई। प्रशासन और आशा वर्कर द्वारा प्रतिदिन बेटी का हाल-चाल पूछा जाता था।
    नेहा के पिता बताते हैं कि मेरी बेटी ने गंभीर स्थिति में होने के बाद भी अपना हौंसला नहीं छोड़ा। चिकित्सकों की सलाह और दवाइयों के साथ उनके द्वारा बताए गए तमाम उपायों का सही पालन करने से वह धीरे-धीरे ठीक होती गई। उन्होंने बताया कि आज नेहा बिल्कुल ठीक है।
   गुलशन मन्हास कहते हैं कि कोरोना से लड़ते हुए हमनेे जो सीखा, वही अन्य लोगों से साझा करना चाहते हैं। अगर हम अपने अंदर सकारात्मक सोच पैदा करें, अपनी जिजीविषा बनाए रखें और स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार अपनी दिनचर्या ठीक रखें, तो हम शीघ्र ठीक हो सकते हैं। इस तरह कोरोना वायरस से आसानी से जंग जीती जा सकती है।’’


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *