ताजा खबरें मुख्य - पृष्ठ हिमाचल प्रदेश

हमीरपुर जिला में 11 जनवरी तक होगा कोरोना वैक्सिन का ड्राई रन


पहली नज़र हमीरपुर

कोरोना वैक्सिनेशन के लिए हमीरपुर जिला में भी सभी तैयारियां आरंभ कर दी गई हैं। पहले चरण में जिला के 5233 फ्रंटलाइन वर्कर्स को यह वैक्सिन दी जाएगी। इन फ्रंटलाइन वर्कर्स में सभी सरकारी और निजी अस्पतालों के डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मचारी शामिल हैं। वैक्सिनेशन आरंभ करने से पहले जिला में कोरोना वैक्सिन का ड्राई रन यानि पूर्वाभ्यास किया जाएगा। यह ड्राई रन 11 जनवरी तक कर लिया जाएगा। इस अभियान की रूपरेखा तय करने के लिए मंगलवार को हमीर भवन में उपायुक्त देवाश्वेता बनिक की अध्यक्षता में जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक एवं कार्यशाला आयोजित की गई। बैठक में एसपी कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, होमगार्ड और अन्य विभागों के अधिकारियों ने भी भाग लिया।
  इस अवसर पर उपायुक्त ने बताया कि जिला में वैक्सिन की स्टोरेज के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जगह चिह्नित कर ली है। विभाग ने वैक्सिन के लिए 43 आईस लाइंड रेफ्रिजरेटर और 47 डी-फ्रीजरों तथा 360 कैरियर्स की व्यवस्था कर दी है। वैक्सिनेशन के लिए सरकारी चिकित्सा संस्थानों में 37 स्थान भी तय कर लिए गए हैं। इनके अलावा मेडिकल कालेज अस्पताल और हमीरपुर शहर में एक अन्य स्थान पर भी वैक्सिन लगाने के लिए आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं। यानि पहले चरण में जिला में कुल 39 स्थानों पर फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सिन लगाई जाएगी।
  उपायुक्त ने बताया कि इसके लिए सरकार ने एक बहुत ही सुनियोजित एवं ऑनलाइन व्यवस्था तैयार की है। वैक्सिनेशन करने वाली प्रत्येक टीम में एक पुलिसकर्मी या होमगार्ड सहित कुल 5 सदस्य होंगे। वैक्सिनेशन स्थलों पर इंतजार कक्ष, वैक्सिनेशन कक्ष और एक रिकवरी कक्ष सहित कम से कम तीन कमरों में सभी आवश्यक प्रबंध किए जाएंगे। ऑनलाइन लिस्ट के अनुसार पहचान के प्रमाण के बाद ही लोगों को इंतजार कक्ष में एंट्री दी जाएगी।
  उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पहले चरण की वैक्सिनेशन के 39 स्थानों पर फर्नीचर और अन्य सभी आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करें। अगर कहीं पर जगह की कमी है तो नजदीकी शिक्षण संस्थान में भी वैक्सिनेशन का प्रबंध किया जा सकता है। देवाश्वेता बनिक ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे वैक्सिनेशन के अगले चरणों के लिए भी अभी से ही तैयारियां पूरी कर लें तथा सभी टीमों को गहन प्रशिक्षण प्रदान करें। उन्होंने बताया कि अभियान के अगले चरणों में महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग और अन्य विभागों का सहयोग भी लिया जा सकता है।
 इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अर्चना सोनी, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संजय जगोता और स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी  ने वैक्सिनेशन के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *